नई दिल्ली: अमेरिका में अश्वेतों के साथ भेदभाव को लेकर भयंकर हिंसा हो रही है. करीब दो दर्जन शहरों में हिंसा-आगजनी हो रही है. इन शहरों में कर्फ्यू लगा दिया गया है. एक पुलिस कर्मी द्वरा एक अश्वेत की गला दबाकर हत्या के बाद वहां लोग भड़क गए हैं. और घटना का भारी विरोध हो रहा है. हिंसा की आंच व्हाइट हाउस तक पहुंच गई और यहाँ से राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प को बंकर में बैठाकर बाहर निकालना पड़ा. कई जगहों पर पुलिस और लोगों के बीच संघर्ष हुआ. Also Read - टीवी एक्ट्रेस को नकली बंदूक तानना पड़ा भारी, पुलिस फायरिंग में हुई मौत

इस बीच अमेरिका के मयामी से पुलिस और हिंसा के बीच से एक बड़ी और मिसाल कायम करने वाली तस्वीर सामने आई है. मयामी में पुलिस ने जिस तरह की विनम्रता से काम लिया. वह अपने आप में एक मिसाल है. दरअसल, मयामी में प्रदर्शन हो रहे थे. इसी बीच पुलिस ने प्रदर्शकारियों के सामने घुटने टेक दिए. पुलिस घुटनों के बल बैठ गई. पुलिस ने घुटनों के बल बैठ कर लोगों से एक अश्वेत की मौत के लिए माफ़ी मांगी. पुलिस ने कैमरों के सामने ऐसा किया. पुलिस काफी देर तक घुटनों पर बैठी रही. Also Read - Trump committed to find a permanent solution to the gun-related violence | ट्रंप ने बंदूक से होने वाली हिंसा का स्थाई समाधान तलाशने का संकल्प लिया

इसके बाद से लोगों ने प्रदर्शन रोक दिए. कई प्रदर्शनकारी रोने लगे. प्रदर्शनकारियों ने पुलिस कर्मियों को गले लगा लिया. पुलिस द्वारा इस तरह की विनम्रता की चर्चा पूरी दुनिया में चर्चा का विषय बनी हुई है. Also Read - 12 yr old sikh boy jokes about blowing up building put him behind bars | 12 साल के बच्चे को बम को लेकर मज़ाक करने पर भुगतनी पड़ी 3 दिन की जेल