वाशिंगटन। अमेरिका में ट्रंप प्रशासन के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि उनका देश चीन को एशियाई देशों को ‘‘परेशान’’ करने या उन पर ‘‘दबंगई’’ करने की अनुमति नहीं देगा. पूर्वी एशियाई और प्रशांत मामलों की कार्यवाहक सहायक विदेश मंत्री सुसान थॉर्नटन ने सीनेट फोरेन रिलेशंस कमेटी के सदस्यों से कहा कि ट्रंप प्रशासन ने यह स्पष्ट कर दिया है कि अमेरिका चीन के साथ ‘‘फलदायी’’ संबंध चाहता है और दोनों देशों को मतभेद सुलझाने के लिए काम करना चाहिए. Also Read - जल्द छोड़ा जाएगा हिरासत में लिया गया चीनी सैनिक, भारतीय सेना ने दिए गर्म कपड़े और खाना

Also Read - LAC Dispute: भारत-चीन सीमा विवाद को लेकर बातचीत के लिए तैयार, 8वें दौर की वार्ता हो सकती है इस सप्ताह

उन्होंने कहा कि हम इस बात को लेकर भी स्पष्ट रहे हैं कि हम एशिया में अमेरिका को विस्थापित करने और क्षेत्र में देशों पर बलप्रयोग करने की चीन की कोशिशों को बर्दाश्त नहीं करेंगे. सुसान ने कहा कि चीन के उदय को सक्षम बनाने वाली अंतरराष्ट्रीय प्रणाली यदि जारी रहती है, तो नियमों और मानकों का पालन किया जाना चाहिए और देशों को परेशान किया या डराया नहीं जाना चाहिए, बल्कि उनके साथ समानता का व्यवहार होना चाहिए. Also Read - ट्विटर ने जम्मू-कश्मीर को बताया चीन का हिस्सा, भड़के लोगों ने रविशंकर प्रसाद से की कार्रवाई की मांग

उन्होंने कहा कि ट्रंप के नेतृत्व में प्रशासन भारत-प्रशांत रणनीति के जरिए क्षेत्र में साझीदारियों को बढ़ाने और संबंधों को गहरा करने की दिशा में काम कर रहा है. सुसान ने कहा कि अमेरिका एक प्रशांत शक्ति है और वह इस क्षेत्र की सफलता के प्रति प्रतिबद्ध रहेगा.

ये भी पढ़ें- डोकलाम पर फिर तनाव! विवादित इलाके में लगातार फाइटर प्लेन और हेलीकॉप्टर उड़ा रहा चीन

उन्होंने कहा कि एशिया प्रशांत क्षेत्र में उत्तर कोरिया के खतरे, दबंग चीन का उदय और आतंकवाद और अतिवाद का प्रसार समेत ‘‘अत्यंत वास्तिवक सुरक्षा’’ और आर्थिक चुनौतियां हैं. उन्होंने कहा कि लोकतंत्र और मानवाधिकारों का पतन तथा भ्रष्टाचार भी कुछ देशों में स्थिरता और विकास की संभावनाओं को कमजोर कर रहे हैं.