वाशिंगटन. अमेरिका में मुहाजिर लोगों के एक समूह ने पाकिस्तान में राज्य प्रायोजित अत्याचार के खिलाफ मुक्त कराची अभियान की शुरुआत की है. इन लोगों का आरोप है कि बंदरगाह शहर कराची में इनके समुदाय के खिलाफ कथित तौर पर राज्य प्रायोजित अत्याचार किये जा रहे हैं.Also Read - PM Narendra Modi US Visit: प्रधानमंत्री मोदी के 7 साल और 7 बार अमेरिका यात्रा, जानें कब क्या हुआ खास

Also Read - PM मोदी की उपराष्ट्रपति हैरिस से मीट‍िंंग में पाक की आतंकी भूमिका पर हुई बात, US ने नजर रखने पर जताई सहमत‍ि

Also Read - American Federal Reserve: अमेरिकी फेडरल रिजर्व के संकेतों का जल्द दिख सकता है असर

छोटे ट्रकों और करीब छह कारों में सवार होकर हाथ में मुक्त कराची के बैनर लिए लोगों ने यहां ऐतिहासिक मार्टिन लूथर परेड में हिस्सा लिया. वे कराची में मुहाजिर तथा अन्य जातीय समुदायों के खिलाफ कथित राज्य प्रायोजित अत्याचारों पर जागरूकता बढ़ा रहे थे.

कराची में एमक्यूएम के वरिष्ठ नेता का शव बरामद

कराची में एमक्यूएम के वरिष्ठ नेता का शव बरामद

अमेरिका स्थित मुहाजिर लोगों की मुख्यधारा के राजनीतिक दल मुत्ताहिदा कौमी मूवमेंट (एमक्यूएम) के पूर्व संयोजक नदीम नुसरत ने कहा, हम कराची को इस्लामाबाद के नियंत्रण से मुक्त कराना चाहते हैं. हम कराची को सुरक्षाबलों के अत्याचारों से मुक्त कराना चाहते हैं. हम कराची के लोगों के मानवाधिकार उल्लंघनों को तुरंत खत्म करना चाहते हैं.

प्रदर्शनकारियों ने कहा कि वे अपने मुद्दे उठाने के लिए कांग्रेस सांसद, नीति निर्माताओं और यहां तक कि राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप से भी मुलाकात करेंगे. मुहाजिर उन उर्दू भाषी प्रवासियों के लिए कहा जाता है जो वर्ष 1947 में भारत से पाकिस्तान आए. इनमें से बड़ी संख्या में लोग सिंध प्रांत में बस गए.