काराकस: वेनेजुएला के राष्ट्रपति निकोलस मादुरो ने एक अजीबोगरीब बयान देते हुए अपने देश की महिलाओं से कम से कम छह बच्चे पैदा करने की अपील की. दरअसल देश में हाल के वर्षों में आर्थिक संकट के चलते लाखों लोग विस्थापित हो गए, जिसके चलते मादुरो ने देश को मजबूत बनाने के लिए यह अपील की. Also Read - बंटवारे के समय आबादी की पूर्ण रूप से अदला-बदली चाहते थे आंबेडकर, BJP प्रवक्ता का दावा

वेनेजुएला संकट: अमेरिका ने कहा- 25 देश मानवीय सहायता के रूप में देंगे 10 करोड़ डॉलर Also Read - अल्पसंख्यकों के दर्जा संबंधी केंद्र के 26 साल पुराने ऑर्डिनेंस के खिलाफ याचिका को SC ने किया खारिज

राष्ट्रपति निकोलस मादुरो ने जन्म की विभिन्न पद्धतियों का प्रचार करने के लिए मंगलवार शाम को टेलीविजन पर प्रसारित कार्यक्रम में यह बयान दिया. उन्होंने कहा, ‘‘ईश्वर आपको देश के लिए छह छोटे लड़के और लड़कियां पैदा करने का आशीर्वाद दें. जन्म दीजिए, फिर जन्म दीजिए, सभी महिलाओं के छह बच्चे होने चाहिए. देश की आबादी को बढ़ाए.’’ Also Read - असम सरकार का बड़ा फैसला, दो से ज्यादा बच्चे पैदा करने वालों को अब नहीं मिलेगी सरकारी नौकरी

वेनेजुएला के राष्ट्रपति की इस टिप्पणी की मानवाधिकार कार्यकर्ताओं और अन्य लोगों ने आलोचना की है. इन लोगों का कहना है कि देश पहले ही भोजन, कपड़े और स्वास्थ्य देखभाल के संकट से जूझ रहा है. युवा लोगों के अधिकारों की रक्षा करने वाले एक समूह सीईसीओडीएपी के संस्थापक ऑस्कर मिस्ले ने कहा, ‘‘देश की जनसंख्या बढ़ाने के लिए महिलाओं को छह बच्चे पैदा करने के लिए प्रेरित करना देश के राष्ट्रपति की और से गैरजिम्मेदाराना रवैया, वो भी ऐसे देश के लिए जो बच्चों को उनकी जिंदगी की गारंटी नहीं देता है.’’

बता दें कि वेनेजुएला आर्थिक संकट के दौर से गुजर रहा है. यहां भयंकर महंगाई है. पानी और रोटी तक के लिए लोगों को संघर्ष करना पड़ रहा है. कई लोग ऐसी स्थिति में देश छोड़कर चले गए हैं. ऐसे में यहां की आबादी कम हो गई है. यहां की आबादी 2019  जनगणना के अनुसार करीब तीन करोड़ थी, जो अब कम हो गई है.