नई दिल्ली: भारत और वियतनाम ने बुधवार को आर्थिक, रक्षा जैसे अहम क्षेत्रों में संबंधों को मजबूत करने का संकल्प जताया. दोनों देशों ने बहुपक्षीय मंचों पर खासतौर पर दक्षिण पूर्वी देश के संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद का अस्थायी सदस्य बनने के मद्देनजर सहयोग पर सहमति जताई. भारत की आधिकारिक यात्रा पर आई वियतनाम की उप राष्ट्रपति डांग थी न्गोक थिन्ह ने अपने भारतीय समकक्ष एम वेंकैया नायडू के साथ प्रतिनिधिमंडल स्तर की वार्ता की. वह 11 से 13 फरवरी तक भारत यात्रा पर हैं. Also Read - Coronavirus Updates 4 April 2021: देश में कोरोना विस्फोट, एकसाथ मिले 93,249 नए मरीज, एक दिन में 514 की मौत

विदेश मंत्रालय ने एक बयान में कहा, ‘‘प्रतिनिधिमंडल स्तर की वार्ता गर्मजोशी, सौहार्दपूर्ण और मैत्रीपूर्ण वातावरण में हुई. दोनों नेताओं ने द्विपक्षीय संबंधों के सभी पहलुओं पर चर्चा की और राजनीतिक, रक्षा, आर्थिक और सुरक्षा जैसे आपसी हितों के मुद्दों पर अपने विचार साझा किए.’’ Also Read - World Wildlife Day: PM Modi ने पर्यावरण के लिए काम करने वालों की सराहना की, कही ये बात

बयान में कहा गया, ‘‘दोनों पक्षों ने बहुपक्षीय मंचों पर करीबी और आपसी समर्थन जारी रखने पर सहमति जताई. खासतौर पर वियतनाम के संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद के अस्थायी सदस्य (2020-21)बनने और इस वर्ष आसियान के अध्यक्ष पद संभालने के संदर्भ में.’’ डांग गुरुवार को राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद से मुलाकात करेंगी. Also Read - कृषि बिल के विरोध में संसद के बाद अब सड़क पर उतरेगी कांग्रेस, जानिये विधेयक को लेकर अब तक क्या-क्या हुआ...

विदेश मंत्रालय ने कहा कि दोनों देशों के बीच 2016 में स्थापित व्यापक रणनीतिक साझेदारी को मजबूत करने में वियतनामी उप राष्ट्रपति की भारत यात्रा एक और कदम है. इस मौके पर भारत और वियतनाम के बीच सीधी उड़ानों का यहां संयुक्त उद्घाटन भी किया गया और ‘वायस ऑफ वियतनाम’ का नयी दिल्ली में रेजिडेंट कार्यालय खोलने का भी समझौता हुआ. वियतनाम की उपराष्ट्रपति 13 फरवरी को बोध गया जाएंगी.