इस्लामाबादः पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने सोमवार को कहा कि जंग कश्मीर मुद्दे का हल नहीं है और इसे बातचीत के जरिये सुलझाया जा सकता है. समाचार चैनलों के पत्रकारों के एक समूह को दिए इंटरव्यू में खान ने कहा कि जब तक कि कोई बातचीत शुरू नहीं होती, तब तक कश्मीर मुद्दे को सुलझाने के विभिन्न विकल्पों पर चर्चा नहीं की जा सकती है. जब उनसे कश्मीर मुद्दे को सुलझाने के फॉर्मूला के बारे में पूछा गया तो खान ने कहा कि इसके दो या तीन समाधान हैं, जिसपर चर्चा की गई हैं. Also Read - विपक्ष की रैलियां से डरे इमरान खान, बोले- पूरे पाकिस्तान में लगा दूंगा लॉकडाउन

हालांकि, उन्होंने इस बारे में अधिक जानकारी साझा करने से इनकार करते हुये कहा, ‘इसपर बात करना अभी काफी जल्दीबाजी होगी.’ भारत के साथ किसी युद्ध की संभावना को खारिज करते हुए उन्होंने कहा कि परमाणु हथियार संपन्न दो देश युद्ध नहीं कर सकते क्योंकि इसका परिणाम हमेशा खतरनाक होता है. उन्होंने कहा कि भारत के साथ शांतिपूर्ण संबंध बनाने के लिए पाकिस्तान अत्यधिक गंभीर है. उन्होंने कहा कि पाकिस्तान की सेना और उनकी सरकार भी यही चाहती है. Also Read - आमिर खान के भांजे और Delhi Belly फेम एक्टर इमरान खान ने एक्टिंग को कहा अलविदा, जानिए फ्यूचर प्लान

करतापुर कॉरिडोर को खोलना ‘गुगली’ फेंकना नहीं
करतारपुर कॉरिडोर को लेकर पैदा हुए विवाद को खत्म करने की कोशिश करते हुए प्रधानमंत्री इमरान खान ने सोमवार को कहा कि करतापुर कॉरिडोर को खोलना ‘गुगली’ फेंकना नहीं, बल्कि यह एक स्पष्ट फैसला था. गौरतलब है कि बृहस्पतिवार को उनके विदेश मंत्री कुरैशी ने कहा था कि प्रधानमंत्री खान ने ऐतिहासिक करतापुर कॉरिडोर के शिलान्यास समारोह में भारत सरकार की उपस्थिति को सुनिश्चित करने के लिए एक ‘गुगली’ फेंकी. हालांकि, कुरैशी के इस बयान की भारतीय विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने तीखी आलोचना की थी. इमरान खान ने जियो न्यूज से कहा, ‘करतापुर कॉरिडोर को खोलना ‘गुगली’ फेंकना या दोहरा खेल नहीं, बल्कि यह निष्कपट व स्पष्ट निर्णय है.’ खान ने कहा कि पाकिस्तान, भारत के साथ शांतिपूर्ण संबंध बनाने के लिए बेहद गंभीर है. Also Read - मरयम नवाज ने पाक की इमरान सरकार को कहा-वो वोट नहीं, बूट के लायक, हम सेना से बात करेंगे

(इनपुट भाषा)