नई दिल्ली| पाक अधिकृत कश्मीर (पीओके) में एक बार फिर पाकिस्तान के खिलाफ आवाज उठी है. पीओके के नेता तौकीर गिलानी ने शनिवार को पाकिस्तान पर निशाना साधते हुए कहा कि यह कहां पर लिखा हुआ है कि कश्मीर, पाकिस्तान का हिस्सा है?  पाकिस्तान पाक-अधिकृत कश्मीर (पीओके) को खुद का हिस्सा बताता है. जबकि भारत कहता है कि पीओके पर उसका अधिकार है. गिलानी ने कश्मीर को लेकर बयान दिया कि वो पाकिस्तान का हिस्सा नहीं है. Also Read - Sharjah से Lucknow आ रही IndiGo flight कराची में हुई लैंड, लेकिन यात्री की नहीं बच सकी जान

तौकीर ने इसे पाकिस्तान की मुस्लिम कॉन्फ्रेंस का प्रोपेगेंडा बताया है, जिसकी कोई बुनियाद नहीं है. उन्होंने कहा हमारे बाथरूम पर भी यही लोग लिखकर जाते हैं कि कश्मीर बनेगा पाकिस्तान. कश्मीर सीमा को लेकर चल रहे विवाद को तौकीर गिलानी ने बकवास की भी हद होती है. Also Read - मलाला यूसुफजई ने कहा- भारत और पाकिस्तान को अच्छे दोस्त बनते देखना मेरा सपना, लोग शांति चाहते हैं

तौकीर गिलानी ने कश्मीर पर पाकिस्तान के हक को खारिज करते हुए मुजफ्फराबाद में कहा कि यह कहां लिखा है कि कश्मीर पाकिस्तान में है? यह पाकिस्तान की मुस्लिम कॉन्फ्रेंस का प्रोपेगेंडा है, जिसकी कोई बुनियाद नहीं है.

21 Lakh prize for cutting off Farooq Abdullah tongue | पूर्व मुख्यमंत्री फारूख अब्दुल्ला की जीभ काटने वाले को 21 लाख रुपए का इनाम

21 Lakh prize for cutting off Farooq Abdullah tongue | पूर्व मुख्यमंत्री फारूख अब्दुल्ला की जीभ काटने वाले को 21 लाख रुपए का इनाम

तौकीर ने कहा, मीरवाइज उमर फारूख और सज्जाद लोन के पिता की हत्या के पीछे पाकिस्तान का हाथ था. इसके अलावा लिब्रेशन फ्रंट के मारे गए 650 लोगों की मौत के लिए जिम्मेदार जिहादियों को पाकिस्तान ने ही समर्थन दिया हुआ है.

तौकीर ने कहा कि पाकिस्तान तथाकथित स्वतंत्रता सेनानियों के शवों को झंजे से लपेटने के लिए 30 हजार रुपये तक देता है. उन्होंने कहा कि बकवासबाजी की इंतहा होती है. टीवी पर आकर कहते हैं कि कश्मीरी नमक हराम है, हम तो 20 रुपये में इनका नमक खरीदते हैं, जिसको दुनिया में कोई नहीं खरीदता. अरे तुम तो पानी भी हमारा पीते हो.

गौरतलब है कि कश्मीर में नेशनल कॉन्फ्रेंस के प्रमुख फारूक अब्दुल्ला ने पीओके को पाकिस्तान का हिस्सा बताया था. उन्होंने कहा था, पीओके पाकिस्तान का हिस्सा है. इसलिए भारतीय पक्ष को उनकी आजादी के बारे में बात करनी बंद करनी चाहिए.