वॉशिंगटन: व्हाइट हाउस प्रेस कार्यालय के शीर्ष प्रवक्ता भारतीय मूल के राज शाह ने पैरवी करने वाली एक संस्था में शामिल होने के लिए अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के प्रशासन को अलविदा कह दिया है. इसी के साथ शाह का नाम उन वरिष्ठ अधिकारियों की सूची में जुड़ गया है, जिन्होंने हाल के कुछ महीनों में ट्रंप प्रशासन से खुद को अलग कर लिया है. व्हाइट हाउस प्रेस एवं संचार टीम के लगातार कमजोर होने के बीच शाह की रवानगी की खबर सामने आई है. कई सहयोगी सरकारी एजेंसियों में दूसरी भूमिका निभाने चले गए हैं या ट्रंप प्रशासन को पूरी तरह छोड़ चुके हैं.

व्हाइस हाउस के उप प्रवक्ता एवं रिपब्लिकन राष्ट्रीय समिति में पूर्व शोधकर्ता रहे 34 वर्षीय शाह राष्ट्रपति ट्रंप के जनवरी 2017 में पदभार संभालने के बाद से उनके प्रशासन का हिस्सा थे. शाह को हाल ही में न्यायमूर्ति ब्रेट एम कॉवनाह की उच्चतम न्यायालय में नियुक्ति के लिए सीनेट की पुष्टि संबंधी सुनवाई के लिए उन्हें तैयार करने का काम सौंपा गया था.

न्यूयॉर्क टाइम्स ने सोमवार को अधिकारियों के हवाले से कहा कि रिपब्लिकन नेशनल कमिटी के पूर्व शोधकर्ता शाह बलार्ड पाटर्नर्स की प्रेस विंग का नेतृत्व करेंगे, जिनके कार्यालय फ्लोरिडा और वाशिंगटन में हैं. वह डेमोक्रेट जेमी रूबिन के साथ काम करेंगे, जो पूर्व विदेश मंत्री मैडेलाइन अल्ब्राइट के प्रवक्ता हैं. शाह जनवरी 2017 से राष्ट्रपति के उपसहायक, संचार विभाग के उपनिदेशक और उपप्रेस सचिव के तौर पर व्हाइट हाउस को अपनी सेवाएं दे रहे थे. उनकी रवानगी ऐसे समय में हो रही है, जब व्हाइट हाउस की प्रेस और दूरसंचार टीम में सदस्यों की संख्या कम कर दी गई है.

न्यूयॉर्क टाइम्स की खबर के मुताबिक शाह बलार्ड पार्टनर्स की प्रेस शाखा ‘मीडिया ग्रुप’ की अगुवाई करेंगे. यह पैरवी करने वाली एक संस्था है, जिसके कार्यालय फ्लोरिडा और वॉशिंगटन में हैं. खबर में अधिकारियों के हवाले से बताया गया कि वह डेमोक्रेट जेमी रूबिन के साथ काम करेंगे जो पूर्व विदेश मंत्री मेडेलिन अलब्राइट के प्रवक्ता रह चुके हैं.

व्हाइट हाउस प्रेस एवं संचार टीम के लगातार कमजोर होने के बीच शाह की रवानगी की खबर सामने आई है. कई सहयोगी सरकारी एजेंसियों में दूसरी भूमिका निभाने चले गए हैं या ट्रंप प्रशासन को पूरी तरह छोड़ चुके हैं.