Covid-19: कोरोना से होगी किसकी मौत? Viral RNA की जांच से चलेगा पता

कोरोनावायरस के प्रबंधन में प्रगति के बावजूद डॉक्टरों को बीमारी से मरने के जोखिम वाले संक्रमितों की पहचान करना मुश्किल हो गया है और इसलिए उन्हें नए उपचार की पेशकश करने में सक्षम होना चाहिए.

Advertisement

Who will die from corona लोगों के खून में सार्स-सीओवी-2 के आनुवंशिक मटेरियल वायरल आरएनए की मात्रा एक विश्वसनीय इंडीकेटर है, जिससे यह पता लगाया जा सकता है कि अब कोरोना से किस संक्रमित की मौत होगी. ये जानकारी शोधकर्ताओं ने साझा की है. कोरोनावायरस के प्रबंधन में प्रगति के बावजूद डॉक्टरों को बीमारी से मरने के जोखिम वाले संक्रमितों की पहचान करना मुश्किल हो गया है और इसलिए उन्हें नए उपचार की पेशकश करने में सक्षम होना चाहिए. यूनिवर्सिट डी मॉन्ट्रियल के नेतृत्व में एक टीम ने एक सांख्यिकीय मॉडल विकसित किया, जो संक्रमित रोगियों की पहचान करने के लिए सार्स-सीओवी-2 के ब्लड बायोमार्कर का उपयोग करता है, जिन्हें कोरोना से मरने का सबसे ज्यादा खतरा है.

Advertising
Advertising

उन्होंने कोरोना के लिए अस्पताल में भर्ती होने के दौरान 279 संक्रमितों से इक्ठ्ठे किए गए खून के नमूनों का उपयोग किया. यह खोज साइंस एडवांसेज जर्नल में प्रकाशित हुई है. मेडिकल प्रोफेसर डॉ डैनियल कॉफमैन ने कहा, "हमारे अध्ययन से हम यह निर्धारित करने में सक्षम हैं कि लक्षणों की शुरूआत के बाद 60 दिनों में कौन से बायोमार्कर की मौत हो सकती है."

टीम ने वायरल आरएनए की मात्रा और वायरस को लक्षित करने वाले एंटीबॉडी के स्तर को भी मापा. लक्षणों की शुरूआत के 11 दिन बाद नमूने इकट्ठे किए गए और उसके बाद कम से कम 60 दिनों तक मरीजों की निगरानी की गई.

यह भी पढ़ें

अन्य खबरें

इसकी प्रभावशीलता की पुष्टि करने के लिए, कॉफमैन और ब्रुनेट-रत्नसिंघम ने महामारी की पहली लहर के दौरान और फिर दूसरी और तीसरी लहर के दौरान संक्रमितों के दो स्वतंत्र समूहों पर मॉडल का परीक्षण किया.

Advertisement

(इनपुट आईएएनएस)

ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज अपडेट के लिए हमें फेसबुक पर लाइक करें या ट्विटर पर फॉलो करें. India.Com पर विस्तार से पढ़ें मनोरंजन की और अन्य ताजा-तरीन खबरें

Published Date:November 27, 2021 3:28 PM IST

Updated Date:November 27, 2021 3:28 PM IST

Topics