वाशिंगटन: अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने उत्तरपूर्वी सीरिया में तुर्की की सैन्य कार्रवाई का विरोध करते हुए कहा है कि यदि तुर्की तबाही की राह पर बढ़ता चला गया तो हम उसकी अर्थव्यवस्था को तेजी से बर्बाद कर देंगे. साथ ही उसने इस्पात पर शुल्क बढ़ाने और 100 अरब डॉलर के व्यापार सौदे पर बातचीत बंद करने की बात कही. ट्रम्प ने एक कार्यकारी आदेश पर हस्ताक्षर करने के साथ ही प्रशासन को तुर्की पर प्रतिबंध लगाने का अधिकार दिया. अमेरिका के सीरिया से अपने सैनिकों को वापस बुलाने के फैसले के बाद अंकारा ने बुधवार को सीमा पर कुर्द लड़ाकों पर हमला किया था.

अमेरिका के उपराष्ट्रपति माइक पेंस ने सोमवार को बताया कि ट्रम्प ने तुर्की के अपने समकक्ष रजब तैयब एर्दोआन को फोन करके तत्काल युद्ध विराम की मांग की. पिछले सप्ताह शुरू हुई तुर्की की कार्रवाई का मकसद कुर्द के नेतृत्व वाली सीरियन डेमोक्रेटिक फोर्सेज (एसडीएफ) को सीमा क्षेत्र से खदेड़ना है. तुर्की एसडीएफ को आतंकवादी संगठन मानता है. एसडीएफ इस्लामिक स्टेट समूह को हराने के पांच साल के अभियान में अमेरिका का प्रमुख सहयोगी रहा है. तुर्की की सरकार क्षेत्र में ‘‘सुरक्षा जोन’’ बनाना चाहती है जहां वह अपने देश में रह रहे 20 लाख सीरियाई शरणार्थियों को बसा सके.

ट्रम्प ने एक बयान में कहा, ‘‘ यह कार्यकारी आदेश मानवाधिकार के गंभीर हनन, संघर्ष विराम को बाधित करने, विस्थापित लोगों को घर लौटने से रोकने, शरणार्थियों को जबरन वापस उनके देश भेजने या सीरिया में शांति, सुरक्षा और स्थिरता को खतरा पहुंचाने वालों के खिलाफ अमेरिका को कड़े प्रतिबंध लगाने का अधिकार देगा.’’ उन्होंने कहा कि तुर्की की सैन्य कार्रवाई आम नागरिकों को खतरे में डाल रही है और क्षेत्र में शांति, सुरक्षा तथा स्थिरता को खतरा पहुंचा रही है. उन्होंने कहा कि वह तुर्की के अपने समकक्ष को यह पूरी तरह स्पष्ट कर चुके हैं कि उनकी कार्रवाई एक मानवीय संकट पैदा कर रही है और युद्ध अपराध जैसे हालात पैदा कर रही है. राष्ट्रपति ने कहा, ‘‘ अगर तुर्की के नेताओं ने खतरनाक और विनाशकारी मार्ग पर चलना जारी रखा, तो मैं उसकी अर्थव्यवस्था को तेजी से बर्बाद करने को पूरी तरह तैयार हूं.’’

उन्होंने बताया कि आदेश के तहत कई तरह की पाबंदियां लगाई जा सकती हैं जैसे आर्थिक पाबंदी, सम्पति की खरीद-ब्रिक्री पर रोक, अमेरिका में प्रवेश पर प्रतिबंध आदि. ट्रम्प ने कहा कि अमेरिका तुर्की से 100 अरब डॉलर के व्यापार सौदे पर बातचीत भी तत्काल बंद कर देगा. इस्पात पर शुल्क भी 50 प्रतिशत बढ़ा दिया जाएगा. अमेरिका राष्ट्रपति ने कहा कि उनका प्रशासन उन लोगों को निशाना बनाने के लिए आर्थिक प्रतिबंधों का आक्रामक रूप से इस्तेमाल करेगा जो सीरिया में जघन्य कृत्यों में मदद करेंगे. अमेरिकी सेना को वापस बुलाने पर ट्रम्प ने कहा कि आईएस के बचे कुचे आतंकवादियों को खदेड़ने के लिए दक्षिण सीरिया के टैन्फ गैरीसन में एक छोटा दल रहेगा. गौरतलब है कि 2016 के राष्ट्रपति चुनाव प्रचार अभियान में ट्रम्प ने सीरिया और अफगानिस्तान से अमेरिकी सेना को वापस बुलाने का वादा किया था.

(इनपुट भाषा)