PM Modi’s Speech At 75th UN General Assembly: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी में संयुक्त राष्ट्र की व्यवस्था में व्यापक सुधार की वकालत की है. उन्होंने कहा है कि आज की बदली हुई दुनिया में संयुक्त राष्ट्र बिना व्यापक सुधार के अपनी विश्वसनीयता के संकट से जूझ रहा है. उन्होंने कहा कि आज इस वैश्विक पंचायत में व्यापक सुधार की जरूरत है जिससे कि वह आज की वास्तविक दुनिया का प्रतिनिधित्व करता दिखे. Also Read - प्रधानमंत्री मोदी के संबोधन पर कांग्रेस का हमला - 'देश को कोरोना का ठोस समाधान चाहिए, कोरा भाषण नहीं'

संयुक्त राष्ट्र के 75वें स्थापना दिवस पर आम सभा को संबोधित करते हुए पीएम ने यह बात कही. उन्होंने कहा कि हम आज की दुनिया की चुनौतियों का सामना एक पुराने पड़ चुके ढांचे से नहीं कर सकते. बिना व्यापक सुधार के संयुक्त राष्ट्र भरोसे के संकट से जूझ रहा है. Also Read - Bihar Opinion Poll: बिहार में किसकी बनेगी सरकार? जानिये क्या कहता है ओपिनियन पोल

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की ओर से संयुक्त राष्ट्र में ढांचे में व्यापक बदलाव की बात इसलिए अहम हो जाती है क्योंकि भारत ने एक जनवरी 2021 से एक बार फिर संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में अस्थायी सदस्य के रूप में शामिल होने जा रहा है. Also Read - PM Narendra Modi Address to Nation Full Speech: कोरोना और नवरात्रि, ईद, छठ से लेकर कबीर के दोहा तक, पढ़ें पीएम मोदी के संबोधन की 10 बड़ी बातें

गौरतलब है कि भारत लंबे समय से संयुक्त राष्ट्र के ढांचे में बदलाव की मांग कर रहा है. संयुक्त राष्ट्र की सबसे ताकतवर व्यवस्था सुरक्षा परिषद के पांच स्थायी सदस्य हैं. एक तरह से ये पांच स्थायी सदस्य- अमेरिका, रूस, ब्रिटेन, फ्रांस और चीन को इस वैश्विक पंचायत में विशेषाधिकार मिला हुआ है.