इस्लामाबाद: पाकिस्तान ने गुरुवार को कहा कि वह भारतीय नागरिक कुलभूषण जाधव को राजनयिक संपर्क मुहैया कराने के लिए काम कर रहा है. जाधव को पाकिस्तान में एक सैन्य अदालत द्वारा सुनाई गई मौत की सजा पर अंतरराष्ट्रीय न्यायालय द्वारा पाक को प्रभावी समीक्षा और पुनर्विचार और उसे राजनयिक संपर्क मुहैया कराने के आदेश दिए जाने के बाद पाक की तरफ से यह कदम उठाया जा रहा है. विदेश विभाग के प्रवक्ता मोहम्मद फैसल ने यहां अपनी साप्ताहिक मीडिया ब्रीफिंग के दौरान मीडियाकर्मियों से कहा, हमने (पूर्व में) कहा था कि राजनयिक संपर्क मुहैया कराया जाएगा और (अब) उस पर काम शुरू हो चुका है.

भारतीय नौसेना के सेवानिवृत्त अधिकारी जाधव (49) को अप्रैल 2017 में बंद कमरे में हुई सुनवाई के बाद पाकिस्तानी सैन्य अदालत ने जासूसी और आतंकवाद के आरोप में मौत की सजा सुनाई थी. उसे सजा सुनाए जाने पर भारत की तरफ से कड़ी प्रतिक्रिया की गई थी.

जाधव के लिए राहत की बात यह है कि अंतरराष्ट्रीय न्यायालय की 16 सदस्यीय पीठ ने 17 जुलाई को 15-1 के बहुमत से उन्हें मृत्युदंड दिए जाने पर रोक लगा दी थी और पाया था कि पाकिस्तान ने जाधव की गिरफ्तारी के बाद उसे राजनयिक पहुंच मुहैया कराने के भारत के अधिकार का उल्लंघन किया है.

कुलभूषण जाधव मामले में भारत की बड़ी जीत, ICJ ने पाकिस्तान से कहा- सजा की करें समीक्षा

फैसल ने अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के कश्मीर मुद्दे के समाधान के लिए मध्यस्थता के प्रस्ताव का भी स्वागत किया. उन्होंने इस प्रस्ताव पर भारत की प्रतिक्रिया को लेकर हैरानगी व्यक्त की. उन्होंने कहा, हमारा रवैया बातचीत आधारित है, यह संयुक्त राष्ट्र के प्रस्ताव पर आधारित है और यह ऐसा ही रहेगा.

भारत ने ट्रंप के प्रस्ताव को दृढ़ता से खारिज करते हुए कहा था कि उसका रुख स्थाई रूप से यह रहा है कि पाकिस्तान के साथ सभी लंबित मुद्दे द्विपक्षीय रूप से सुलझाए जाएं.

कुलभूषण जाधव केस में ICJ के फैसले के बाद पाक ने कहा- कानून के अनुसार बढ़ेंगे आगे

करतारपुर गलियारे को लेकर अगली बैठक के बारे में पूछे जाने पर फैसल ने कहा कि पाकिस्तान बातचीत के लिये तैयार है और भारत की तरफ से तारीख दिये जाने का इंतजार कर रहा है. उन्होंने कहा कि अगली बैठक जल्द होगी. उन्होंने प्रधानंत्री इमरान खान के अमेरिका दौरे को बेहद सफल और उपयोगी करार दिया. उन्होंने कहा, यह हमारी उम्मीदों से कहीं ज्यादा सफल दौरा था.