नई दिल्ली: आज विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) ने अपने एक बयान में कहा कि कोरोनावायरस (Coronavirus) महामारी से निपटने के लिए भारत ने बहुत सही समय पर जरूरी कदम उठाने शुरू कर दिए थे और आज उन्हीं का नतीजा है कि देश में इतनी आबादी होने बावजूद कोरोना के संक्रमण को एक बड़े पैमाने तक फैलने से रोकने में भारतीय सरकार कामयाब रह है. यह बयान डब्ल्यूएचओ की दक्षिण पूर्वीं एशिया की क्षेत्रीय निदेशक डॉ. पूनम खेत्रपाल ने दिया है. उन्होंने कहा कि भारत कोविड-19 के खिलाफ शुरू से ही काफी सतर्क रहा. Also Read - WHO की मुख्य वैज्ञानिक ने कहा- वैश्विक रूप से प्रभावी होने लगा है कोरोना का डेल्टा वैरिएंट, अन्य स्वरूपों की तुलना में...

उन्होंने कहा कि जब यह खतरनाक वायरस दुनिया में तेजी से फैल रहा था और भारत में इसके बहुत कम केस थे तभी से भारत ने दवाई, अस्पतालों को तैयार करने, कोविड19 की जांच व्यवस्थाओं की तैयारी में लग गया था. उन्होंने कहा कि भारत जैसे बड़ीआबादी वाले राज्य के की स्थितियों से हम परिचित हैं. उन्होंने कहा कि भारत ने कोरोना के खिलाफ लॉकडाउन सहित कई निर्णय शुरू से ही लिए. Also Read - Covaxin पर दस्तावेज सौंपे जाने के पहले 23 जून को WHO के साथ बैठक करेगी भारत बायोटेक

उन्होंने कहा कि अगर हम देश की आबादी और उसके क्षेत्रफल के अनुसार देखें तो यह कह सकते हैं कि वहां हालात असमान्य नहीं है. उन्होंने यह भी कहा कि जो कदम उठाए गए वह जरूर पूरी तरह से पर्याप्त नहीं हो सकते लेकिन इन उपायों ने संक्रमण को फैलने से रोकने में जरूर मदद की है.

आपको बता दें कि देश में इस समय कोरोना संक्रमित लोगों की संख्या 12 लाख के करीब पहुंच गई है और पिछले 24 घंटे में कोरोना से लगभग 650 लोगों की मौत हुई है. इस समय देश में करीब चार लाख 13 हजार से अधिक एक्टिव केस हैं.