World News: आतंकी संगठन तालिबान (Taliban) उन लोगों की तलाश तेज कर रहा है, जिन्होंने नाटो और अमेरिकी बलों के लिए काम किया है और उनके साथ सहयोग किया है. गोपनीय पेपर नॉर्वेजियन सेंटर फॉर ग्लोबल एनालिसिस द्वारा तैयार किया गया है, जो संयुक्त राष्ट्र को खुफिया जानकारी प्रदान करता है. बीबीसी की रिपोर्ट के अनुसार, ‘तालिबान लक्षित व्यक्तियों के परिवार के सदस्यों को तब तक गिरफ्तार कर रहे हैं या उन्हें मारने या गिरफ्तार करने की धमकी दे रहे हैं, जब तक कि वे तालिबान के सामने आत्मसमर्पण नहीं कर देते.’Also Read - तालिबान ने दर्जनों हेलीकॉप्टर व अन्य सैन्य उपकरणों का क्या किया, खुद बताया

इसमें कहा गया है कि विशेष जोखिम वाले लोग सैन्य, पुलिस और जांच इकाइयों में पदों वाले लोग हैं. रिपोर्ट में कहा गया है, ‘तालिबान सभी प्रमुख शहरों का अधिग्रहण करने से पहले व्यक्तियों की अग्रिम मैपिंग कर रहा है.’ इसमें कहा गया है कि काबुल हवाई अड्डे से कुछ विदेशी कर्मियों को निकालने की अनुमति देते हुए आतंकवादी व्यक्तियों की स्क्रीनिंग कर रहे हैं, लेकिन वहां की स्थिति ‘अराजक’ बनी हुई है. रिपोर्ट के अनुसार, तालिबान नए शासन के साथ सहयोग करने के लिए नए मुखबिर नेटवर्क की भर्ती कर रहा है. Also Read - UN में अपने प्रतिनिधि को भेजना चाहता है Taliban, सोहेल शाहीन को बनाया गया नया राजदूत

तालिबान के प्रवक्ता जबीउल्लाह मुजाहिद ने मंगलवार को कहा था कि विद्रोही समूह ‘किसी भी संघर्ष, किसी भी युद्ध को दोहराना’ नहीं चाहता है. तालिबान द्वारा अफगानिस्तान सरकार को उखाड़ फेंकने के बाद से मुजाहिद ने अपनी पहली प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा था, ‘हम संघर्ष के कारकों को खत्म करना चाहते हैं. इसलिए, इस्लामिक अमीरात की किसी के प्रति किसी भी तरह की दुश्मनी नहीं है.’ उसने कहा था कि सभी दुश्मनी ‘समाप्त हो गई हैं.’ Also Read - अफगानिस्तान में तालिबान ने IPL प्रसारण पर रोक लगाई, स्टेडियम में मौजूद लड़कियों को बताया वजह

जियो न्यूज की रिपोर्ट के अनुसार, प्रवक्ता ने कहा था, ‘हम शांति से रहना चाहते हैं. हम कोई आंतरिक दुश्मन या बाहरी दुश्मन नहीं चाहते हैं.’ प्रवक्ता ने कहा था कि तालिबान पूर्व सैनिकों और पश्चिमी समर्थित सरकार के सदस्यों के खिलाफ प्रतिशोध की मांग नहीं करेगा. यह आंदोलन पूर्व अफगान सरकार के सैनिकों के साथ-साथ ठेकेदारों और अनुवादकों को माफी दे रहा है, जिन्होंने अंतर्राष्ट्रीय बलों के लिए काम किया था. (IANS Hindi)