कोपेनहेगनः नोबेल पुरस्कारों की सीरीज में गुरुवार को साहित्य के नोबेल पुरस्कार विजेताओं की घोषणा की गई. इस दौरान वर्ष 2018 और वर्ष 2019 के लिए पुरस्कार घोषित किए गए. पोलैंड की लेखिका ओल्गा तोकारजुक को 2018 जबकि आस्ट्रियाई लेखक पीटर हैंडके को 2019 का साहित्य नोबेल पुरस्कार दिया जाएगा. पिछले साल 2018 का पुरस्कार घोषित नहीं किया गया था. प्रतिष्ठित पुरस्कार का संचालन करने वाली स्वीडिश अकादमी ने पिछले साल एक यौन उत्पीड़न कांड के बाद इसे स्थगित कर दिया था.

तोकारजुक को पिछले साल बुकर इंटरनेशनल पुरस्कार से भी सम्मानित किया जा चुका है. एफे न्यूज की रिपोर्ट के अनुसार, अकादमी ने एक बयान में कहा, “ओल्गा तोकारजुक को सीमाओं के आर-पार जीवन के एक रूप को दर्शाने की काल्पनिकता के लिए यह सम्मान मिलेगा.” अकादमी ने कहा कि ऑस्ट्रिया के लेखक पीटर हैंडके को मानवीय अनुभव की परिधि और विशिष्टता को भाषाई सरलता के जरिए खोजने के महत्वपूर्ण कार्य के लिए 2019 का नोबेल पुरस्कार दिया गया है.

Nobel 2019: लीथियम आयन बैटरी पर काम करने के लिए 3 वैज्ञानिकों को मिला केमिस्ट्री का नोबेल पुरस्कार

इन लेखकों को नौ मिलियन स्वीडिश क्रोनर (912,000 डॉलर) पुरस्कार के तौर पर मिलेंगे. तोकारजुक का जन्म 1962 में पोलैंड के सुलेचो में हुआ था और अब वह व्रोकला में रहती हैं. वारसॉ विश्वविद्यालय में मनोविज्ञान का अध्ययन करने के बाद उन्होंने 1993 में पोड्रोज लुडजी केसीगी (जर्नी ऑफ द बुक-पीपल) के साथ एक फिक्शन लेखक के रूप में अपनी शुरुआत की. वह हैंडके सहित 114 पुरुषों की तुलना में साहित्य में नोबेल जीतने वाली 15वीं महिला बनीं.

हैंडके का जन्म 1942 में दक्षिणी ऑस्ट्रिया के कार्टेन क्षेत्र के ग्रिफेन गांव में हुआ था. 1961 से उन्होंने ग्राज विश्वविद्यालय में कानून का अध्ययन किया, लेकिन उन्होंने पढ़ाई छोड़ दी. इस दौरान उनका पहला उपन्यास डाई हॉर्निसेन 1966 में प्रकाशित हुआ. इस साल फरवरी में 200 उम्मीदवारों की प्रारंभिक सूची प्रकाशित की गई थी. फिर इसके कुछ महीनों बाद आठ फाइनलिस्ट चुने गए थे, जिसमें से विजेताओं का चयन किया गया.

शुक्रवार को शांति पुरस्कार की घोषणा की जाएगी. इसके बाद सोमवार को अर्थव्यवस्था के क्षेत्र में बेहतरीन काम करने वालों को सम्मानित किया जाएगा. यह पुरस्कार 10 दिसंबर को स्टॉकहोम में आयोजित होने वाले एक समारोह में दिए जाएंगे, जोकि नोबेल के संस्थापक अल्फ्रेड नोबेल की जयंती पर आयोजित होगा.