बीजिंग: चीन में कोरोना वायरस महामारी से निपटने के राष्ट्रपति शी चिनफिंग के तौर-तरीके की सार्वजनिक रूप से आलोचना करने वाले एक सरकारी संपदा कंपनी के पूर्व अध्यक्ष को मंगलवार को भ्रष्टाचार के एक मामले में 18 साल की कैद की सजा सुनायी गयी. सरकार ने इस फैसले की घोषणा की.Also Read - IMF ने 2022 में भारत की वृद्धि दर का अनुमान 9 प्रतिशत किया, चीन 4.8%, यूएस 4% फीसदी पर रहेंगे

रेन झिकियांग सेंसरशिप और अन्य संवेदनशील विषयों पर बोलने को लेकर चर्चा में आ गये थे. उनका एक ऑनलाइन आलेख प्रकाशित हुआ था जिसमें शी पर इस महामारी से ढंग से नहीं निपटने का आरोप लगाया गया. उसके बाद वह मार्च से सार्वजनिक रूप से नजर नहीं आये. Also Read - ताइवान में चीन की मनमानी : भेजे 39 लड़ाकू विमान, ताइवान ने की जवाबी कार्रवाई

एक स्थानीय अदालत ने रेन (69) को भ्रष्टाचार, रिश्वतखोरी, गबन और पद के दुरूपयोग का दोषी ठहराया. हुआयुआन ग्रुप के पूर्व अध्यक्ष और पार्टी उपसचिव को जुलाई में सत्तारूढ़ पार्टी से निष्कासित कर दिया गया था. Also Read - शिवसेना का निशाना, कहा- BJP को चीन की ‘घुसपैठ’ के बारे में भी बोलना चाहिए, ना कि सिर्फ पाकिस्तान के बारे में

(इनपुट भाषा)