पेरिस: फ्रांस में पेट्रोल-डीजल पर टैक्स की वृद्धि के खिलाफ जारी हुआ ‘येलो वेस्ट’ प्रदर्शन लगातार चल रहा है, जो कि राष्ट्रपति मैक्रों और उनकी नीतियों के खिलाफ परिवर्तित हो चुका है. इस शनिवार भी बड़ी तादाद में राष्ट्रपति मैक्रों की नीतियों के खिलाफ प्रदर्शन हुआ. फ्रांस में लंबे समय से चल रहे ‘येलो वेस्ट’ प्रदर्शनों में इस शनिवार को भी बड़ी संख्या में लोग शामिल हुए लेकिन इस दौरान हिंसक घटनाओं में काफी गिरावट आई है. पेरिस तथा अन्य शहरों में प्रदर्शनकारियों और पुलिस के बीच झड़पों में सैकड़ों की संख्या में प्रदर्शनकारियों की गिरफ्तारी की खबर है. वहीँ ब्रिटेन में एक सोशल मीडिया यूजर ने ‘येलो वेस्ट’ प्रदर्शन का एक वीडियो ट्विटर पर शेयर करते हुए यूनाइटेड किंगडम में भी ऐसे ही प्रदर्शन की जरूरत बताई यह वीडियो सोशल मीडिया पर खासा वायरल हो गया. Also Read - फ्रांस में वर्जिनिटी टेस्ट पर बैन से मचा बवाल, इस्लामिक आतंकवाद के खिलाफ उठाए जा रहे कदम

Also Read - फ्रांस की सेना ने मार गिराए 50 आतंकी, अलकायदा ने राष्ट्रपति इमैनुएल मैक्रों को दी 'बदला लेने' की धमकी

फ्रांस में ‘Yellow Vest Protest’ जारी, मैक्रों के नीतियों के खिलाफ जुटे कई प्रदर्शनकारी हिरासत में Also Read - Vienna Terror Attack: फ्रांस के बाद वियना में आतंकी हमला, 7 लोगों की मौत, इमैनुएल मैक्रों बोले- हम झुकेंगे नहीं

पूरे देश में 80 हजार सुरक्षा अधिकारी तैनात

गृह मंत्रालय ने बताया कि राष्ट्रपति एमैनुएल मैक्रों के खिलाफ नौंवे चरण के प्रदर्शन में 84 हजार से अधिक लोग एकत्रित हुए वहीं पिछले शनिवार को हुए प्रदर्शन में 50 हजार लोग एकत्रित हुए थे. गृह मंत्री क्रिस्टोफे कास्टनर ने बताया कि हिंसक घटनाओं को रोकने के लिए राजधानी पेरिस में 5 हजार और पूरे देश में 80 हजार सुरक्षा अधिकारी तैनात किए गए हैं. नौंवे चरण के प्रदर्शन में हिंसा की कोई गंभीर घटना नहीं हुई है. गौरतलब है कि ईंधन कर में वृद्धि के विरोध में देश में 17 नवंबर से प्रदर्शन शुरू हुए थे लेकिन बाद में इनमें मैक्रों का व्यापार समर्थित एजेंडा और सरकार चलाने के तरीके के प्रति विरोध भी शामिल हो गया था. अब प्रदर्शनकारियों  मांग है कि राष्ट्रपति एमैनुएल मैक्रों अपने पद से इस्तीफ़ा दें, प्रदर्शनकारियों का कहना है कि मैक्रों अमीरों के राष्ट्रपति हैं. (इनपुट एजेंसी)

‘Yellow Vest Protest’ थमने के आसार नहीं, राष्ट्रपति मैक्रों के वादे और रियायत बे-असर