पेरिस. फ्रांस में ‘येलो वेस्ट’ प्रदर्शन के नए दौर के दौरान प्रदर्शनकारियों की दंगारोधी पुलिस से झड़प हो गई और 1700 से अधिक लोग गिरफ्तार कर लिए गए. गृह मंत्रालय ने रविवार को यह खबर दी. बढ़ती महंगाई और आम तौर पर राष्ट्रपति एमैनुएल मैक्रों (Emmanuel Macron) के विरुद्ध देशव्यापी प्रदर्शन के चौथे सप्ताहांत को मार्सिले, बोर्डोक्स और टौलाउज समेत कई शहरों में प्रदर्शनकारियों और पुलिस के बीच झड़प हुई. गृह मंत्रालय के अनुसार 1723 लोग पकड़े गए. आपको बता दें कि फ्रांस की राजधानी पेरिस से शुरू हुआ यह आंदोलन अब देश के विभिन्न शहरों में फ़ैल गया है. प्रदर्शनकारी युवा देश में बढ़ती महंगाई के विरोध में सड़कों पर उतर आए हैं.

हाई-अलर्ट पर पेरिस: ‘येलो वेस्ट’ प्रदर्शन के चलते फुटबॉल मैच और म्यूजिक शो भी हुए कैंसिल

पेरिस में पुलिस ने बताया कि उसने शनिवार को 1082 लोगों को गिरफ्तार किया जो पिछले दौर के दौरान गिरफ्तार 412 लोगों से काफी अधिक है. गृह मंत्रालय के अनुसार शनिवार को प्रदर्शन में करीब 136,000 लोगों ने हिस्सा लिया. एक दिसंबर को भी प्रदर्शन में करीब इतने लोग पहुंचे थे. पेरिस में प्रदर्शन बड़ा हिंसक रहा. प्रदर्शनकारियों ने कारों और अवरोधकों में आग लगा दी तथा शीशे तोड़ दिए. शहर प्रशासन के अनुसार येलो वेस्ट ने अब एक दिसंबर की तुलना में बहुत ज्यादा नुकसान पहुंचाया. इन प्रदर्शनों के केंद्र में राष्ट्रपति हैं और संभावना है कि वह आने वाले कुछ दिनों में प्रदर्शनकारियों को संबोधित कर सकते हैं. प्रदर्शनकारी ‘‘मैक्रों इस्तीफा दो’’ के नारे लगा रहे थे.

सोशल मीडिया पर ‘यलो वेस्ट’ नामक आंदोलन ने हर उम्र व पृष्ठभूमि के लोगों को आकर्षित किया है. प्रदर्शनकारियों द्वारा आपातकाल में पहनी जाने वाली पीली जैकेट पहनने के कारण इस आंदोलन का नाम ‘यलो वेस्ट’ पड़ा है. प्रदर्शनकारियों का कहना है कि मैक्रों की आर्थिक नीतियां अमीरों के हित में हैं. इस विरोध-प्रदर्शन के दौरान कई लोगों ने मैक्रों के इस्तीफे की मांग की है.