अमेरिका राष्ट्रपति डोनल्ड ट्रंप एक और चौंकाने वाला फैसला ले सकते हैं. रायटर्स ने सूत्रों के हवाले से कहा है कि ट्रंप पेरिस जलवायु समझौते से अमेरिका के अलग होने का ऐलान कर सकते हैं. रायटर्स ने एक्सिस न्यूज ऑउटलेट ने सूत्रों के हवाले से यह जानकारी दी। ट्रंप प्रशासन पहले ही इस समझौते को लेकर सहज नहीं था.

ट्रंप ने 27 मई को वैश्विक कार्बन उत्सर्जन कटौती पर 2015 के पेरिस समझौते का अनुपालन करने या नहीं करने पर अगले सप्‍ताह फैसला लेने की घोषणा की थी. ट्रंप ने सिसली में जी 7 सम्मेलन से ट्वीट किया था कि पेरिस समझौते पर मैं अपना आखिरी फैसला अगले सप्‍ताह करूंगा. यहां उन पर अमेरिका के साझेदार देशों ने ‘ग्लोबल वॉर्मिंग’ का मुकाबला करने पर एक रूप-रेखा तय करने के लिए दबाव डाला था.

इससे पहले शनिवार को व्हाइट हाउस ने कहा कि अमेरिका के लिए जलवायु परिवर्तन  पर पेरिस समझौते के तहत अपनी प्रतिबद्धताओं का पालन करना वृद्धि में ‘बाधक’ होगा. बता दें कि अपने चुनाव प्रचार अभियान के दौरान डोनाल्ड ट्रंप ने ग्लोबल वार्मिंग कम करने पर 2015 में हुई संधि से बाहर होने का वादा किया था. अब ट्रंप ने कहा है कि वो सिसली में शुक्रवार से शुरू हुए जी-7 सम्मेलन के बाद वॉशिंगटन लौटने पर इस पर फैसला लेंगे.

पूर्व राष्ट्रपति बराक ओबामा के शासन में कार्बन उत्सर्जित करने वाले दुनिया के दूसरे सबसे बड़े देश अमेरिका ने 2025 तक 2005 के स्तर से 26-28 प्रतिशत तक ग्रीनहाउस गैस का उत्सर्जन घटाने का संकल्प लिया था. उन्होंने ट्रंप सरकार को इस समझौते से पीछे नहीं हटने की भी हिदायत दी थी.